सब्ज़ी

सहजन की खेती कैसे करें – Drumstick Farming

सहजन का सबसे ज्यादा इस्तेमाल सब्जी के रूप में किया जाता है. सहजन का पौधा एक साल बाद ही पैदावार देना शुरू कर देता है. सहजन के पौधे के सभी भाग (पत्ती, फूल, फल, बीज, डाली, छाल, जड़ें, बीज) उपयोगी होते हैं. सहजन के पौधे को कई नामों से जाना जाता है. सहजन का इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाइयों में किया जाता है. आयुर्वेद में सहजन को शक्तिवर्धक माना गया है.

सहजन के पौधे पर लगभग 6 से 10 इंच लम्बी फलियां लगती है. इन फलियों का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है. सहजन की फलियों में किसी भी चीज़ से ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसमें प्रोटीन की मात्रा पानी के बाद सबसे ज्यादा पाई जाती है. जो मनुष्य के शरीर के लिए उपयोगी होते हैं.

सहजन की खेती

सहजन की खेती के लिए ज्यादा पानी की जरूरत नही पड़ती. और इसकी खेती के लिए किसी ख़ास तरह की मिट्टी की भी जरूरत नही होती. सहजन की खेती के लिए सामान्य पी.एच. की जरूरत होती है. इसकी खेती शुष्क प्रदेशों में भी आसानी से की जा सकती है.

अगर आप भी सहजन की खेती कर अच्छी कमाई करना चाहते है तो आज हम आपको इसकी खेती के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने वाले हैं.

उपयुक्त मिट्टी

सहजन की खेती के लिए शुष्क दोमट मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है. शुष्क दोमट मिट्टी के अलावा इसकी खेती उचित देखरेख के माध्यम से और भी कई तरह की जमीन में की जा रही हैं. इसकी खेती जलभराव वाली जमीन में नही की जा सकती. इसकी खेती के लिए मिट्टी का पी.एच. मान 6 से 7.5 तक होना चाहिए. इसकी खेती कमजोर गुणवत्ता वाली मिट्टी में भी की जा सकती है.

जलवायु और तापमान

इसके पौधे के लिए शुष्क और नम जलवायु सबसे उपयुक्त होती है. सहजन के पौधे को अधिक बारिश की जरूरत नही होती. इसके पौधे से अच्छी पैदावार के लिए इसके पौधे को सामान्य गर्म मौसम की ज्यादा जरूरत होती है. क्योंकि गर्म मौसम में इसके पौधे पर फूल अच्छे से खिलते हैं. जिससे पैदावार भी अधिक होती है.

सहजन के पौधों को रोपाई के वक्त 20 से 25 डिग्री तापमान की जरुरत होती है. और इसके फूल खिलने के वक्त इसे 30 डिग्री के आसपास तापमान की जरूरत होती है. लेकिन 40 डिग्री से ज्यादा तापमान होने पर इसके फूल झड़ने लग जाते हैं.

उन्नत किस्में

सहजन की कई उन्नत किस्में हैं, जिन्हें भारत में जल्दी और अधिक पैदावार देने के लिए उगाया जाता है.

रोहित 1

सहजन की ये किस्म पौध रोपण के लगभग 6 महीने बाद ही पैदावार देना शुरू कर देती है. इसका पौधा साल में दो बार पैदावार देता है. इस किस्म के एक पौधे से एक बार में 10 किलो तक पैदावार प्राप्त की जा सकती है. इसका पौधा लगभग 7 साल तक पैदावार दे सकता है. इस किस्म के सहजन का गुदा स्वादिष्ट, मुलायम और उच्च गुणवत्ता वाला होता है. इसकी फलियों की लम्बाई एक से सवा फिट के बीच पाई जाती हैं.

कोयम्बटूर 2

सहजन की उन्नत किस्म

इस किस्म के पौधे रोपाई के लगभग एक साल के आसपास पैदावार देना शुरू करते हैं. जो तीन से 5 साल तक पैदावार देता है. इसके पौधे पर लगने वाली फलियों की लम्बाई एक फीट के आसपास पाई जाती हैं. एक पौधे से 200 से 375 फलियां प्राप्त की जा सकती हैं. इस किस्म की फलियों का रंग गहरा हरा और गुदा स्वादिष्ट होता है. इसका पौधा साल में दो बार फल देता है.

पी.के.एम – 1

इस किस्म का पौधा 5 फिट तक की लम्बाई का होता है. जो पौध रोपण के लगभग 8 से 9 महीने बाद पैदावार देना शुरू कर देता है. इसका पौधा भी साल में दो बार पैदावार देता है. इसके एक पौधे से 200 से 350 फलियां प्राप्त होती है. इस किस्म का पौधा 4 से 5 साल तक पैदावार देता है.

पी.के.एम – 2

सहजन की इस किस्म को अधिक पानी की जरूरत के आधार पर तैयार किया गया है. इस किस्म की कच्ची फली हरे रंग की और बहुत स्वादिष्ट होती है. जिसकी लम्बाई एक से दो फिट तक पाई जाती है. इसके एक पौधे से एक बार में 300 से 400 फलियां प्राप्त होती है. सहजन की ये किस्म भी साल में दो बार ही पैदावार देती हैं.

खेत की तैयारी

सहजन की खेती के लिए खेत में मौजूद पहले की फसल के सभी अवशेष नष्ट करने के बाद एक गहरी जुताई कर उसमें रोटावेटर चला दें. इससे जमीन समतल और भुरभुरी हो जायेगी. उसके बाद खेत में तीन मीटर की दूरी छोड़ते हुए एक फिट व्यास और एक फिट गहराई के गड्डे तैयार कर लें. उसके बाद इन गड्डों में उचित मात्र में उर्वरक मिलाकर पानी देकर तैयार कर लें. इन गड्डों को पौधे की रोपाई से 10 दिन पहले तैयार के लेना चाहिए.

पौध तैयार करना

सहजन के बीज सीधे खेत में नही लगाए जाते पहले इसके पौधों को नर्सरी में तैयार किया जाता हैं. उसके बाद जब पौधा लगभग डेढ़ से दो फिट की लम्बाई का हो जाता है, तब उसे खेत में लगाया जाता है. नर्सरी में इसकी पौध पॉलीथिन बैग में तैयार की जाती है. पॉलीथिन बैग में इसकी पौध तैयार करते वक्त प्रत्येक बैग में दो से तीन बीज डालने चाहिए. इसका बीज लगभग 10 दिन में अंकुरित हो जाता है. उसके लगभग एक या दो महीने बाद इसे खेत में लगाया जाता है.

पौध लगाने का वक्त और तरीका

सहजन के पौधे

नर्सरी में तैयार की हुई पौध को खेत में लगाते वक्त पॉलीथिन में मौजूद दो से तीन पौधों में से सिर्फ एक अच्छे वाले पौधे को बचाकर बाकी पौधों को नष्ट कर दें. उसके बाद तैयार किये गए गड्डों में इसे एक और छोटा गड्डा तैयार कर उसमें लगा दें.

इसके पौधों को जुलाई से सितम्बर माह तक खेत में लगा देना चाहिए. क्योंकि बारिश का मौसम होने की वजह से पौधा अच्छे से विकास करता है. और पौधे को सिंचाई की जरूरत भी नही होती.

पौधों की सिंचाई

सहजन के पौधे को पानी की काफी कम जरूरत होती हैं. इस कारण सर्दियों में इसके पौधे की 20 से 22 दिन में एक बार सिंचाई करनी चाहिए. और गर्मियों के टाइम में सप्ताह में इसकी एक सिंचाई काफी होती है. जब पौधे पर फूल लगने लगे तब पौधे को कम मात्रा में पानी देना चाहिए. लेकिन ज्यादा सुखा रहने पर भी फूल झड़ने लगते हैं. इसलिए जब पौधे पर फूल लगने लगे तब पौधों में उचित नमी बनाकर रखनी चाहिए.

उर्वरक की मात्रा

सहजन के पौधे को उर्वरक की ज्यादा जरूरत नही होती. इसके पौधों को खेत में लगाते वक्त प्रत्येक पौधों को 10 किलो गोबर की खाद और 50 किलो एन.पी.के. प्रति हेक्टेयर के हिसाब से पौधों को साल में एक बार देना चाहिए.

पौधों का रखरखाव

सहजन के पौधे जब तीन से चार फिट के हो जाएँ तब उनके शीर्ष (चोटी) को तोड़ देना चाहिए. इससे पौधे में नई शाखाएं बनने लगती हैं. इसके अलावा प्रत्येक साल में फल तोड़ने के बाद एक बार पौधे की कटिंग कर दें. इससे पौधे में और नई शाखाएं जन्म लेने लगती हैं. जिससे पैदावार में भी वृद्धि देखने को मिलती है.

खरपतवार नियंत्रण

सहजन के पौधों में खरपतवार नियंत्रण के लिए पौधों की दो से तीन नीलाई गुड़ाई कर देनी चाहिए. इससे पौधा अच्छे से वृद्धि करता है. और पैदावार भी अच्छी प्राप्त होती है.

पौधों में लगने वाले रोग

सहजन के पौधे पर काफी कम ही रोग देखने को मिलते हैं. लेकिन कुछ किट रोग ऐसे भी हैं जो पौधे को ज्यादा नुक्सान पहुँचाते हैं.

भुआ पिल्लू

भुआ पिल्लू रोग

भुआ पिल्लू किट रोग का लार्वा पौधे की पत्तियों को खाकर उन्हें नष्ट कर देता हैं. शुरुआत में ये लार्वा पौधे पर समूह में एक साथ रहता हैं. लेकिन बाद में अपने भोजन की तलाश में ये पूरे पौधे पर फैल जाता है. इस रोग का लार्वा एक पौधे को नष्ट करने के बाद पास वाले और पौधों पर भी फैलता है. इस रोग की रोकथाम के लिए पौधे पर सर्फ के घोल की छिड़कना चाहिए. जिससे ये किट तुरंत मरने लगता है.

फल मक्खी

सहजन पर फल मक्खी का रोग काफी कम देखने को मिलता है. फल मक्खी का रोग पौधे की पत्तियों और फलों को नुकसान पहुँचाती है. इस रोग के कीट पौधे की पत्तियों और फलों का रस चूसकर उन्हें नष्ट कर देते हैं. इस रोग की रोकथाम के लिए पौधों पर डाइक्लोरोवास का छिडकाव उचित मात्रा में करना चाहिए.

फलियों की तुड़ाई

सहजन की फलियों की तुड़ाई उनके कच्चे रूप में ही की जाती है. फलियों के लगने के बाद जब उनका रंग हरा और आकर्षक दिखाई देने लगे तब उन्हें पकने से पहले तोड़ लेना चाहिए. फलियों में रेशे बनने के बाद नही तोड़ना चाहिए. उसके बाद फलियाँ पकने के लिए छोड़ देना चाहिए. सहजन की कई किस्में हैं जो साल में दो बार पैदावार देती हैं. इस कारण इसकी साल में दो बार तुड़ाई की जाती हैं. सहजन की तुड़ाई पहली तुड़ाई फरवरी-मार्च में करनी चाहिए और दूसरी तुड़ाई सितम्बर-अक्टूबर के महीने में करनी चाहिए.

पैदावार और लाभ

सहजां के एक पौधे से एक बार में औसतन 200 से 300 फलियां प्राप्त होती हैं. इनका कुल वजन 40 से 50 किलो तक पाया जाता है. एक हेक्टेयर में सहजन के लगभग 400 से 500 पेड लगाए जा सकते हैं. इस हिसाब से एक हेक्टेयर से लगभग 1600 से लेकर 2000 किलो तक सहजन प्राप्त किये जा सकते हैं. जिनसे किसान भाई एक बार में एक से दो लाख तक की कमाई आसानी से कर सकता हैं.

To top