अन्य

कृषि उपकरणों को इस तरह किराए पर ले सकते हैं किसान

भारत सरकार द्वारा किसानों के लिए कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं. जिनके माध्यम से सरकार किसानों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लाभ प्रदान करती हैं. वर्तमान में कृषि संबंधित उपकरणों की खरीद पर सरकार की तरफ से सब्सिडी देने का प्रावधान है. जिसमें सरकार 50 प्रतिशत तक किसानों को सहायता मुहैया करवाती हैं. लेकिन कुछ उपकरण काफी महंगे आते हैं. जिस कारण किसान उन्हें सब्सिडी के माध्यम से भी नही खरीद पाते हैं. जिस कारण उन्हें अपनी खेती संबंधित उपकरणों के लिए दूसरे पर निर्भर होना पड़ता हैं. इन सभी परेशानियों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार की तरफ से एक और पहल की गई है.

किराए पर मिलेंगे कृषि उपकरण

जिसके माध्यम से सरकार अब किसान भाइयों को ये सभी कृषि यंत्र किराए पर प्रदान करवाएगी. इसके लिए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने एक मोबाइल फोन एप को भी लॉन्च किया है. जिसका नाम सीएचसी-फार्म मशीनरी ( CHC farm machinery ) रखा गया है. सरकार की तरफ से इस एप को 12 अलग अलग भाषाओं के साथ लॉन्च किया गया है. इस एप के माध्यम से किसान भाई अपने से 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कस्टम हायरिंग सेंटर से अपने पसंदीदा कृषि उपकरण किराए पर ले सकता हैं. इसके बारें में कहा जा रहा है कि इसके माध्यम से कम जोत वाले किसानों को अच्छा लाभ मिलेगा. और उन्हें अपनी फसल से अच्छा उत्पादन प्राप्त होगा.

कौन कौन लाभ ले सकता हैं

सरकार द्वारा शुरू किये गये इस कार्यक्रम का लाभ सभी छोटे, बड़े और सीमांत किसान भाई ले सकते हैं. इसके लिए किसान भाई के पास कृषि योग्य भूमि का होना जरूरी हैं.

कैसे करें आवेदन

सरकार के इस कार्यक्रम के तहत किसान भाई को कृषि यंत्रों पर छूट के लिए सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) पर जाकर आवेदन कर होगा. जहां पर किसान भाई को अपनी पसंद वाले यंत्र के बारें में सीएससी संचालक को बताना होगा. जिसके बाद सीएससी सेंटर संचालक एक आवेदन नंबर किसान को देगा. इसके अलावा किसान भाई किसी भी सहायता केंद्र ( साइबर कैफे या ई-मित्र ) से इन्टरनेट के माध्यम से https://www.agrimachinery.nic.in/ पोर्टल पर जाकर भी इसके लिए आवेदन कर सकता हैं.

इस कार्यक्रम से संबंधित किसी भी तरह की अन्य जानकारी किसान भाई सरकार द्वारा जारी की गई सीएचसी-फार्म मशीनरी” एप पर अपना रजिस्ट्रेशन कर प्राप्त कर सकते हैं.

सब्सिडी की सुविधा

इस कार्यक्रम के माध्यम से सरकार किसानों को उपकरण की खरीद पर सब्सिडी का प्रावधान भी प्रदान करती हैं. जिसके माध्यम से सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी को किसान भाई अपने खाते में ले सकता हैं, या दुकानदार और संबंधित कंपनी को भी दे सकता हैं. जिससे किसान भाई को मिलने वाली सब्सिडी की राशि का लाभ उपकरण की कीमत पर मिल जाता हैं. हालांकि सरकार की तरफ से अभी तक ये नही बताया गया है की उपकरणों पर कितनी प्रतिशत तक सब्सिडी दी जाएगी.

कौन कौन से उपकरण मिलेंगे किराये पर

इस कार्यक्रम के तहत अब तक एक लाख 20 हज़ार उपकरणों का पंजीकरण हो चुका हैं. इनमें से कौन कौन सी मशीनें किसान भाई को मिल सकती हैं. इनकी फोटो एप पर दी गई हैं. जहां से उनकी फोटो देखकर और उनका मोलभाव तय कर उनका आर्डर किसान भाई नजदीकी सेंटर को दे सकता हैं. इस कार्यक्रम के तहत अब तक इस एप पर 40 हज़ार से ज्यादा कस्टम हायरिंग सेंटर रजिस्टर्ड हो चुके हैं.

कार्यक्रम के लाभ

सरकार द्वारा शुरू किये गए इस कार्यक्रम के कई तरह के लाभ हैं.

  1. इसके माध्यम से छोटी जोत वाले किसानों भाई जो पैसों के अभाव के चलते बड़े कृषि उपकरणों को आसानी से नही खरीद पाते थे. उनको अब बड़े कृषि यंत्र आसानी से मिल जायेंगे. और किसान भाई अपनी फसल से अधिक उत्पादन ले पाएंगें.
  2. किसान भाई अपनी फसल को समय पर उगाकर और समय पर काटकर उन्हें खराब होने से बचा पायंगे.
  3. इस तरीके से किसानों को फसल उत्पादन करने में कम लागत लगानी पड़ेगी.
  4. नए कस्टम हायरिंग सेंटर खुलने की वजह से लोगों को रोजगार आसानी से मिल जायेंगे.

सरकार द्वारा शुरू किये गए इस कार्यक्रम के बारें में या अन्य किसी सरकारी योजना के बारें में जानकारी संबंधित राय हमारे साथ कमेंट बॉक्स में साझा कर सकते हैं.

To top