अनाज

अंकुरित अनाज के नाम और खाने के फायदे.

अंकुरित अनाज फलियों के दानो और अनाज के दानो के अंकुरण से बनता है. अंकुरित अनाज को घर पर बीजों को साफ़ कर पानी में भिगोकर बनाया जाता है. अंकुरित अनाज में सामान्य खाने से मिलाने वाले पोषक तत्वों की मात्रा ज्यादा पाई जाती है. जिस कारण इसको खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढती है. और शरीर को ताजगी महसूस होती है. अंकुरित अनाज को सुबह के वक्त नाश्ते के रूप में खाया जाता है. अंकुरित अनाज में कई तरह के विटामिन और प्रोटीन अधिक मात्रा में पाए जाते हैं.

अंकुरित अनाज

अंकुरित अनाज सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं. इसको प्राचीन काल से ही प्राकृतिक चिकित्सा विज्ञान में एक दावा के रूप में माना जाता है. अनाज में पाए जाने वाले कार्बोहाइट्रेड और प्रोटीन की मात्रा अनाज के अंकुरित होने पर बढ़ जाती है. जिससे इनकी पौष्टि‍कता भी बढ़ जाती है. अंकुरित अनाज के खाने से शरीर को मिलने वाली कैलोरी की मात्रा अधिक प्राप्त होती है. जिससे बाकी चीजों के नही खाने से शरीर में वसा की मात्रा कंट्रोल रहती है. जिससे मोटापा की बीमारी दूर रहती है.

चना

अंकुरित चना शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसके बीजों को साफ़ पानी से धोकर उसे 24 घंटे पानी में भिगोकर रखने के बाद साफ़ कपड़े में लपेटकर अँधेरी जगह में रख दें. जिसके बाद उसमें जल्द अंकुरण आ जाता है. इस अंकुरित चने का इस्तेमाल कच्चा या पकाकर सब्जी और सीधा खाने के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं. चने के अंदर घुलनशील और अघुलनशील दोनो ही प्रकार के फाइबर ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं. घुलनशील फाइबर शरीर के पाचन तंत्र को मजबूत करता है, तो अघुलनशील फाइबर कब्‍ज जैसी समस्‍याओं को रोकता है. जिससे शरीर को बार बार भूख का अनुभव नहीं होता.

मूंग

मूंग को अंकुरित करने के लिए पहले उसके दानों को 5 से 6 घंटे पानी में भिगोकर रखे. उसके बाद उन्हें साफ़ पानी से धोकर सूती कपडे में लपेटकर रख दे. जिसमें लगभग 12 घंटे बाद अंकुर आ जाते हैं. मूंग की दाल को फ्राई कर खाना चाहिए. इससे अंकुरण के कारण उत्पन्न होने वाले बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं. अंकुरित मूंग को खाने से चेहरे की चमक बढ़ जाती है. अंकुरित मूंग में आयरन की मात्रा बढ़ जाती है. जिससे शरीर में खून की मात्रा भी बढती है.

सोयाबीन

अंकुरित सोयाबीन कैंसर जैसी बीमारियों में लाभदायक होता है. लेकिन इसे अधिक मात्रा में खाने पर कई तरह के नुक्सान भी देखने को मिलते हैं. अंकुरित सोयाबीन के अंदर आयरन और प्रोटीन की मात्रा ज्यादा पाई जाती है. इसके बीजों को अंकुरित करने के लिए पहले इन्हें लगभग 24 घंटे पानी में भिगो दे. उसके बाद साफ़ पानी से धोकर उन्हें सूती के कपड़े में लपेटकर रख दे. और जब उसमें अंकुरण निकल आयें तब उन्हें फ्राई कर या सब्जी बनाकर खाया जाता है.

To top